****तूफान ****

किसने देखा तूफान को उठते हुए, जो लेकर चला गया सबकुछ किसी का।
ज्वार भाटे सा आया और  ऊथल पुथल  कर गया राज़ ए दिल का।।

Comments

Popular posts from this blog

*****हिसाब ****

****अधूरापन ****

****ख्वाहिश ****