आईना

जो बहुत हंसते है अक्सर आईना रुला देता है उन्हे |
हम माने ना माने हक़ीक़त से रूबरू करा देता है हमे ||

Comments

Popular posts from this blog

*****हिसाब ****

****ख्वाहिश ****

****अधूरापन ****