****अधूरापन ****

हाँ अधूरी है बात कोई, अधूरी है रात कोई
अधूरे है ख्वाब की, अधूरे हालात कई
अधूरे से मन की है, अधूरी सी आस कोई
अधूरे हम अधूरे तूम, जैसे ना पास कोई
अधूरा एक पल कहीं, अधूरे दिन रात कहीं
अधूरे ही मन से सही, पुकारे है पास कोई
अधूरा कोई जी रहा है, जैसे अधूरा एहसास कोई
अब तो सुन ले ऐ खुदा, कर दे पूरी बात कोई
कर दे पूरी बात कोई, कर दे पूरी बात कोई

Comments

Popular posts from this blog

*****हिसाब ****

****ख्वाहिश ****