****शोर ****

मन के उजालों से दूर कहीं,
पलकों की चिलमन से
ओझल कोई।
दूर जहाँ तक नजर गई,
है कुछ भी नहीं
बस शोर यही।।
तनुजा

Comments

Popular posts from this blog

*****हिसाब ****

****अधूरापन ****

****ख्वाहिश ****